Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

छत्तीसगढ़ के बस्तर में फिर मुठभेड़: दंतेवाड़ा के जंगमपाल इलाके में 1 लाख का इनामी नक्सली वट्ठा ह मारा जाएगा, फायरिंग जारी

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बस्ता10 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट
(*1*)

दंतेवाड़ा SP डाक्टर अभिषेक पल्लव ने इस मुठभेड़ और ह को के मारे जाने की पुष्टि की है। -प्रतिकारक फोटो

बीजापुर में पुलिस-नक्सली मुठभेड़ के 8 दिन बाद एक और मुठभेड़ की सूचना मिल रही है। अभी तक मिली सूचना के मुताबिक पुलिस का कहना है कि पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में नक्सली वट्टी ह जाएगी मारा गया है। एच विल कटेकल्याण क्षेत्र कमेटी में बड़ी पोजिशन में था और उस पर 1 लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया है। जवानों ने उसका शव बरामद कर लिया है।

घटनास्थल से बड़ी मात्रा में नक्सली साहित्य, घरों की जरूरत का सामान, एक 8 MM पिस्तौल, देसी कट्ठा, 2 किलो IED बम विस्फोट किए जाते हैं। दंतेवाड़ा SP डाक्टर अभिषेक पल्लव ने इस मुठभेड़ और ह को के मारे जाने की पुष्टि की है। उनके मुताबिक अभी फायरिंग जारी है और नक्सली पीछे भागते हुए फायर कर रहे हैं। हमारे जवानों को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है। ऑपरेशन जब पूरी तरह खत्म होगा तो पूरी जानकारी सामने आएगी।

दंतेवाड़ा पुलिस को सूचना मिली थी कि कटेकल्याण के जंगलों में नक्सली मूवमेंट है। सूचना के बाद रिजर्व रिजर्व ग्रुप के जवानों को तलाश के लिए भेजा गया। डीआरजी को जंगल के भीतर जानकारी मिली कि कटेकल्याण क्षेत्र कमेटी के माओवादी गडम और जंगमपाल में शामिल हैं। DRG के जवान उस ओर बढ़े। जैसे ही ये लोग गादम के अंदरूनी हिस्से में पहुंचे। जंगल में छिपे नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जवानों ने तुरंत हमला किया। बताया जा रहा है कि नक्सलियों को यहां जवानों के पहुंचने की उम्मीद नहीं थी, लिहाजा वे थोड़ा लापरवाह थे। इसी तरह का फायदा उठाते हुए जवानों ने भीषण गोलाबारी की और यहां मौजूद भारीकोर नक्सली वट्ठ हस को को गिरा दिया गया।

क्या DRG है
नक्सलियों से निपटने के लिए अभी तक सबसे प्रभावी बल डिस्ट्रिक्ट रिजर्व ग्रुप ही है। दरअसल इस ग्रुप में बस्तर के जिलों के युवकों को ही शामिल किया जाता है। जिले के युवक होने के कारण उन्हें उस इलाके का पूरी तरह भौगोलिक ज्ञान होता है। स्थानीय होने के कारण ग्रामीणों का उन पर विश्वास होता है और वे ज्यादा जानकारी जुटा लेते हैं। दूसरे फोर्स जिसमें बाहर के युवा होते हैं उनके साथ ये दोनों बातें लागू नहीं होती हैं, लिहाजा अभी डीआरजी के युवा ही नक्सलियों के लिए सबसे बड़ा खतरा बने हुए हैं। इनकी मदद से सुरक्षा बलों ने कई ऑपरेशन सफलता से पूरे किए हैं।

बीजापुर में फिर नक्सलियों ने सामग्री जलाई
उधर, बीजापुर में 3 अप्रैल को बड़ी वारदात अंजाम देने वाले नक्सलियों ने शनिवार रात फिर वाहनों को आग लगा दी। नैमेड थाने के अंतर्गत मिनगाछल नदी पर एक वाटर फिल्टर प्लांट बन रहा है। यहां निर्माण में 2 पोकलेन, 2 एजोक्स मशीन और एक ट्रॉड को नक्सलियों ने आग के हवाले कर दिया। इन वाहनों से पहले चालकों को उतारा गया और फिर आग लगाई गई। बीजापुर एसपी घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: