Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

लापरवाही गिरने के भारी कारण थे: 3 युवक सेल्फी लेने के बीच नदी में उतरे; हाइडल प्लांट ने पानी छोड़ दिया था

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अरबा2 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट
  • कटघेरा जेल बस्ती से डूबान की ओर घूमने गए थे तीन तीनों, एक घंटे की मशक्कत के बाद रस्सी के सहारे नदी के बीच से बाहर निकाले गए।

कटघेरा के जेलपारा बस्ती के रहने वाले तीन युवक 19 वर्षीय शुभम यादव, 18 वर्षीय राजा जायसवाल और प्रभात वैष्णव गुरुवार की दाेपहर घूमने के लिए बांगाे डूबान की ओर गए थे। यहां जल स्तर कम देखकर सेल्फी लेने के लिए तीनाें युवक नदी के बीच पानी में चले गए।

पानी के बीच में पुराने पुल के हिस्से में खड़े हाेकर तीनाें मजे कर रहे थे और सेल्फी लेने के साथ ही एक-दूसरे की फाेटा खींचने में व्यस्त थे। ठीक इसी तरह वहाँ अचानक जल स्तर बढ़ने लगा। तेज लहर भी उठने लगी। इसे देखकर वहां माए तरह तीनाें गायें के हाेश उड़ते चले गए। बांगाे की ओर से अचानक ज्यादा पानी आने पर उनकाे लगा कि कहीं बांध से पानी ताे नहीं छाेड़ा गया है और घबराकर उन्हाेंने अपनी जान बचाने डाॅयल 112 काे वहीं से काल किया। सूचना मिलने पर कुछ देर में डाॅयल 112 की टीम माैके पर पहुंची।

पहले हेय के पास ही पुल से रस्सी थकर बाहर निकालने की काशीश की गई। इसके बाद नदी किनारे से रस्सी फेंककर एक-एक कर तीनाें युवकाें काे बाहर निकाला गया। इनदिनें बांगाे हाइडल प्लांट से पानी छाएड़ा जा रहा है, इसके बाद भी युवकोने माेल लेने से लेने से पीछे नहीं हटे और अपनी जान खतरे मे लगा। वहीं युवकों के फंसे हाेने की सूचना पर बांगाे हाइडल प्लांट के जरिए छाएड़े जा रहे पानी के बहाव काे कुछ देर के लिए राेक दिया गया था। अगर समय पर नदी के फंसे युवकाें का रेस्क्यू नहीं किया जाता तो बड़ी घटना हाे सकती थी।

फाेटाए, सेल्फी के लिए डूबान क्षेत्र में जाने जानबेखिम में डालने से बचे लाएग
बांगाए थाना प्रभारी अनिल पटेल ने बताया कि घटना की सूचना मिलते ही तत्काल टीम को भेजा गया। डायल 112 की टीम माएके पर पहले से पहुंच गई थी। संयुक्त रूप से रेस्क्यू शुरू किया। बांगाए बांध के अधिकारियाें काे सूचना दी गई और पानी का राेकने कहा गया। लगभग एक घंटे में तीनाें काे बाहर निकाल लिया गया। इधर इस घटना के बाद पुलिस ने लाेगाें से अनुरोध किया है कि बांगाे बांध या डूबान क्षेत्र में जाएं, नदी में उतरकर किसी तरह से फाेटाे व सेल्फी की काेशिश में अपनी जान जाेखिम में डालने से बचना चाहिए। डूबान में जल का स्तर अचानक कम-ज्यादा हातेते रहता है। इसलिए ऐसी स्थिति बनने की नौबत कभी भी आ सकती है। इसलिए ऐसे कोई कदम न उठाएं जिससे आपकी जान का खतरा हो और दूसरों को भी परेशानी हो।

सिंचाई और निस्तारी के लिए पानी का होना
ग्रीष्म कालीन फसलाें की सिंचाई और निस्तारी के लिए प्रति घंटे 0.3 केएम तक पानी बांगाए बांध से यहां के हाइडल प्लांट के जरिए नदी में छाएड़ा जा रहा है। बांगाए हाइडल प्लांट से पानी छांधने से यहां दाए यूनिट से 80 टन तक बिजली उत्पादन भी जारी है। गुरुवार काे युवकाें के नदी के बीच फंसने की सूचना पर बांगाे हाइडल प्लांट से पानी का बहाव कुछ देर के लिए राेक दिया था। इसके कारण नदी का जल स्तर कम हुआ और तीनाें युवकाें काे बाहर निकाल लिया गया।

पहले भी हाएद ने इस तरह की घटनाएं की हैं
लगभग तीन साल पहले बांगाे डूबान क्षेत्र में ही पिकनिक मनाने पहुंचे तीन लाएग अचानक तेज बहाव की चपेट में आ गए थे। देवप्रहरी पिकनिक स्पाट में भी तेज बहाव में बीच में कुछ युवक फंस गए थे। डेढ साल पहले दर्री बराज के निचले हिस्से में काम के दाैरान पानी के तेज बहाव में बहने से बचे थे। ऐसी घटनाएं न हाए, इसके लिए डूबान क्षेत्र में जाने से बचना चाहिए।

खबरें और भी हैं …

(*3*)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: