Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

बहुचर्चित अभिषेक मिश्रा हत्याकांड: फैसले की तारीख बढ़ी, लॉकडाउन के बीच नहीं आया फैसला, अब 24 अप्रैल को आ सकता है परिणाम

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भिलाईएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

भिलाई का बहुचर्चित हत्याकांड च

छत्तीसगढ़ के भिलाई में हुए हाईप्रोफाइल अभिषेक मिश्रा हत्याकांड के फैसले की तारीख आगे बढ़ गई है। अब 24 अप्रैल 2021 को फैसला आने की संभावना है। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेश श्रीवास्तव की कोर्ट में फैसला होना था। सीनियर वकील राजकुमार तिवारी ने बताया कि आज फैसले की तारीख थी। पूर्ण लॉकडाउन और कोरोना के कारण आगे तारीख को बढ़ा दिए गए हैं।

छत्तीसगढ़ का हाईप्रोफाइल हत्याकांड(*24*)

नवंबर 2015 में अभिषेक मिश्रा की हत्या कर दी गई थी। 10 नवंबर 2015 की शाम शंकराचार्य के कालेज के चेयरमैन आईपी मिश्रा के इकलौते बेटे अभिषेक मिश्रा का अपहरण हुआ था। किडनैपिंग की खबर ने पूरे प्रदेश में खलबली मचा दी थी। पुलिस ने भी इसे हल करने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा दिया था। यही कारण था कि पूरे देश के लगभग एक करोड़ मोबाइल फोन की डिटेल खंगालने के बाद पुलिस की निगाह भिलाई में रहने वाले सेक्टर -10 निवासी विकास जैन के ऊपर आ टिक गई थी।

वारदात में तीन आरोपी गिरफ्तार किए गए(*24*)

मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था, जिसमें अभिषेक के कालेज में पढ़ाने वाली प्रोफेसर किम्सी जैन, उनके पति विकास जैन और उनके चाचा अजीत शामिल थे। आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद लगातार इस मामले की जांच की गई और जांच पूरी होने के बाद दुर्ग न्यायालय में चार्जशीट पेश की गई। लगभग 5 साल (2016) से ये मामला दुर्ग जिला न्यायालय में चल रहा था।

अभियोजन पक्ष के सीनियर वकील राज कुमार तिवारी ने बताया कि फैसले की तारीख आ गई है। आरक्षण पक्ष की तरफ से पैरवी कर रहे एडवोकेट बीपी सिंह और उमा भारती साहू ने भी अपना पक्ष रखा। दोनों पक्षों के तर्कों को सुनने के बाद कोर्ट ने फैसले की तारीख सुरक्षित की है। कोर्ट 31 मार्च को हत्याकांड मामले में अपना फैसला सुनाएगी।

क्या मामला था और क्यों की गई थी हत्या(*24*)

पुलिस की थ्योरी में आया था कि आरोपी किम्सी जैन, अभिषेक मिश्रा के कालेज में काम करता था। इसी दौरान दोनों करीब आए थे। साल 2013 में किम्सी ने विकास जैन से शादी कर ली और कालाज की नौकरी को छोड़ दी। लेकिन अभिषेक चाहता था कि उनका रिश्ता कायम रहे। वह लगातार उसम्सी पर इसके लिए दबाव डाल रहा था। परेशान किम्सी ने पूरी बात अपने पति विकास को बताई। पति के मन में बदला लेने की भावना आ गई। इसके बाद उसम्सी, उसके पति विकास और उसम्सी के चाचा अजीत सिंह ने हत्या की शिकार रची थी।

अभिषेक मिश्रा को किम्सी ने चौहान टाउन स्थित घर पर 9 नवंबर 2015 को बुलाया। घर पहुंचने के बाद किम्सी और अभिषेक के बीच विवाद हुआ। पहले से मौजूद विकास और अजीत ने अभिषेक के सिर पर पीछे से लिन से वार किया, जिससे वह वहीं कमरे में गिर गया। फिर अभिषेक को किम्सी के चाचा अजीत सिंह जो दूरी पर स्मृति नगर भिलाई में रहती थी। उसको वहाँ ले जाना पहले से किए गए 6 फीट गहरे गड्ढे में ले जाकर दफना दिया था।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *