Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

छत्तीसगढ़ में वैक्सीन पर सियासत: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री बोले- को-वैक्सीन से बघेल सरकार के इनकार के कारण बिगाड़े राज्य के हालात; सिंहदेव का पलटवार- जनता को गुमराह न करें डॉ। हर्षवर्धन

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

छत्तीसगढ़ ने कोराएना वैक्सीनेशन के लिए तीसरे चरण का ट्रायल पूरा किए बिना को-वैक्सीन को अनुमति देने पर सवाल उठाने वाले थे। इससे केंद्र राज्य में विवाद था

देश और प्रदेश में कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण के बीच केंद्र और राज्य की सरकारों के बीच दलित राजनीति जारी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ। हर्षवर्धन ने शुरुआत में कोरोना की को-वैक्सीन लगाने से इनकार करने को छत्तीसगढ़ में महामारी बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया है। उत्तर में छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने केंद्रीय मंत्री पर जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ। हर्षवर्धन ने अपने आधिकारिक सोशल मीडिया हैंडल पर लिखा, “छत्तीसगढ़ सरकार ने डीसीजीआई द्वारा आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण दिए जाने के बावजूद CO-VACCIN का उपयोग करने से इनकार कर दिया। राज्य सरकार अपने कार्यों से लोगों की जान संकट में ही नहीं डाल रही है, बल्कि दुनिया में गलत संदेश भी दे रही है। “

उत्तर में छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने दस्तावेजों के साथ हमला कर दिया। सिंहदेव ने लिखा, “छत्तीसगढ़ में 10 प्रतिशत से ज्यादा लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है, जो राष्ट्रीय कवरेज से ज्यादा है। एक दिन में 3 लाख लोगों को यानी राज्य की 1 प्रतिशत से अधिक जनसंख्या को वैक्सीन दी गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को छत्तीसगढ़ की जनता को गुमराह नहीं करना चाहिए। केंद्र सरकार जितना वैक्सीन की खेप छत्तीसगढ़ को मुहैया करवाएगी, हम उतने ही ज्यादा लोगों को जल्द से जल्द वैक्सीन दे देंगे। अगर टेस्टिंग की बात करें तो तो छत्तीसगढ़ राज्य देश में कुछ गिने राज्यों में से है, जहां प्रति 10 लाख में सबसे ज्यादा लोगों की टेस्टिंग हो रही है।

टीएस सिंहदेव यहीं नहीं रुकें। उन्होंने लिखा, “केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री का यह बयान ऐसे समय पर आया जब सभी राज्यों और केंद्र ने पिछले दिन ही महामारी से सामना करने का निर्णय लिया था, बहुत ही दुःखद है। वह राज्य सरकारों के साथ इस प्रकार की सहकारिता की अपेक्षा कर रहे हैं।]

टेस्टिंग को मृत्युदर की वजह बताने को भी बेबुनियाद बताया

टीएस सिंहदेव ने कहा, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जी का दावा है कि छत्तीसगढ़ में कोरोना द्वारा मृत्यु दर का कारण टेस्टिंग है, बिल्कुल बेबुनियाद है। हमें दुख की की अवस्था में सकारात्मकों की संख्या बढ़ रही है पर 40000 से अधिक प्रति दिन टेस्ट की संख्या ने इसका रोकथाम और बचाव में की है।

सिंहदेव का आरोप, चर्चा होती रहती है तब भी गुमराह किया जाता है

टीएस सिंहदेव ने आरोप लगाया, डॉ। हर्षवर्धन सभी तथ्य जानते हैं। बैठक में उनसे चर्चा भी होती है। उसके बाद भी वे गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। सिंहदेव ने कहा, प्रति 10 लाख की आबादी में छत्तीसगढ़ में 202985 टेस्ट हैं। वहीं, देश का औसत 193415 है। छत्तीसगढ़ में एक दिन में प्रति 10 लाख की आबादी पर 1627 टेस्ट हो रहे हैं। जबकि, राष्ट्रीय औसत केवल 929 है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: