Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

चैत्र नवरात्रि: हे भगवान! फिर वही कोरोना; मंदिरों में जलती 28000 थी, इस वर्ष 10000

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बिलपुर12 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट
  • मनोकामना होगी, तेल की ज्योति का 200 और घी का 600 रुपए बढ़ाएं

13 अप्रैल को चैत्र नवरात्रि के साथ हिंदू नववर्ष की शुरुआत होने जा रही है। पिछले साल चैत्र नवरात्रि से पहले कोरोना नेॉक दी थी और पूरा देश लॉक हो गया था। इस बीच 4 नवरात्रियों गुजरीं और अब एक बार फिर चैत्र नवरात्रि सामने है। हालात भी जस के शांत हैं। यह देखता है कि इस साल मंदिरों में सेवादारों की संख्या कम कर दी गई है।

साथ ही ज्योति कलश भी कम स्थापित की जा रही हैं। वहीं भक्त भी इस साल कम ज्योति जलाने के लिए रसीद कटा रहे हैं। वहीं महामाया मंदिर रतनपुर और अन्य मंदिरों में तेल व घी की ज्योति का शुल्क भी बढ़ा दिया गया है। महामाया मंदिर में तेल का 200 रुपए और घी का 600 रुपए बढ़ा दिया गया है। वहीं अन्य मंदिरों ने भी शुल्क बढ़ा दिया है। महामाया मंदिर सहित शहर के 5 मंदिरों में हर साल 28 हजार 787 ज्योति प्रज्जवलित होती हैं। इस वर्ष 10 हजार 928 ज्योति के लिए भक्तों ने पंजीयन कराया है। हर साल की उम्मीद 17 हजार 859 ज्योति कम ज्योतिलेगी। अब ऐसे में इस नवरात्रि महामाया मंदिर में भक्तों की मनोकामना गंध हो गई है। इस बार आधे से ज्यादा भक्तों की जयत जल पाने की मनोकामना अधूरी रह जाएगी।

महामाया मंदिर रतनपुर
मंदिर ट्रस्ट के सुनील सोंथलिया ने बताया कि ज्योति के शहर सहित अन्य स्थानों पर काउंटर हैं। लोग रसीद कटा रहे हैं। अभी तक लगभग 10 हजार लोगों ने रसीद कटाए हैं। हर साल 24 हजार ज्योति जलती हैं। हर साल 300 सेवादार मंदिर में रहते थे, लेकिन संक्रमण के कारण इस साल कम करके 150 कर दिया गया है। नवरात्रि से पहले सभी का कोरोना टेस्ट कराया जाएगा। इसके बाद मंदिर में इन्हें प्रवेश दिया गया है। यह 9 दिन तक मंदिर में ही रहेगा। भक्तों के दर्शन के लिए मंदिर नहीं खुलेंगे। ऑफ़लाइन माता-पिता का दर्शन भक्तों को बनाया जाएगा।

तिफरा काली मंदिर
मंदिर के सेवादार दीलिप साहू ने बताया कि मंदिर में साफ-सफाई शुरू हो गई है। इस साल ज्योति कलश के लिए 495 भक्तों ने तेल व 49 भक्तों ने घी की रसीद कटाई है। पिछली नवरात्रि में 200 घी और 3200 तेल की ज्योति जली थी। 15 भक्तों ने कन्या भोजन की रसीद कटाई है। मंदिर में 12 सेवादार हैं।

काली मंदिर कुआडांड
मंदिर के पूजारी ने बताया कि 34 साल से ज्योति कलश यहां भक्तों द्वारा मनाए जाते हैं। इस वर्ष मंदिर में संक्रमण के कारण 4 सेवादार ही रहेंगे।

दुर्गा, काली मंदिर जवाईपुल
पं। संतोष वाजपेयी ने बताया कि 51 साल से मां की पूजा-अर्चना की जा रही है। इस वर्ष शासन की गाइड लाइन के अनुसार भक्तों को मां का दर्शन मिलेगा।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: