Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

कोरोना से जंग: होम आइसोलेशन के मरीजों को इमरजेंसी में अस्पताल पहुंचाने में 24 घंटे काम करेगा

  • 55 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को कोरोना होने पर अस्पताल में भर्ती कराएंगे, घरों में नहीं रखेंगे
  • लॉकडाउन के दौरान कहीं भी भीड़ दिखी तो उन सभी लोगों का मौके पर ही कोरोना टेस्ट होगा

होम आइसोलेशन में इलाज कराने वाले लोगों को किसी भी तरह की इमरजेंसी होती है तो उन्हें तत्काल अस्पताल पहुंचाया जाएगा। इसके लिए प्रशासन ने 24 घंटे काम करने वाला कंट्रोल रूम बना दिया है। कलेक्टोरेट परिसर के जिला पंचायत भवन में शुरू किए गए कॉल सेंटर में किसी भी तरह की इमरजेंसी आने पर किसी भी समय फोन किया जा सकता है।

अफसरों ने बताया कि मरीजों को गंभीर स्थिति में अस्पताल पहुंचाने वाले अधिकारी-कर्मचारियों की चार शिफ्ट में ड्यूटी लगाई गई है। इमरजेंसी में रोगी किसी भी समय तत्काल कंट्रोल रूम के फोन नंबर 75661-00283, 75661-00284 और 75661-00285 पर कॉल कर सकता है। इसके अलावा पहली पाली में सुबह 6 बजे से दोपहर 12 बजे तक कुंदन सिंह (86760-56184), विक्रम सिंह लोधी (9179113793), शिवेंद्र सिंह (9893061946) दूसरी पाली में दोपहर 12 बजे से शाम 6 बजे तक एचआर देवांगन (83193-82779) की धारणा देवांगन (86691-22430), सोनल सोनी (88399-24004) प्रकाश दीवान (98271-75990), तीसरी पाली में शाम 6 से रात 12 बजे तक सीएल शर्मा (98279-58846), लोकेश वर्मा (99774-51981), समर अयुबासी (990396-58761) की ड्यूटी लगाई गई है। होम आइसोलेशन कंट्रोल रूम के प्रभारी डॉक्टर से मोबाइल नंबर 75661-00283, 75661-00284, 75661-00285 पर रात 12 से सुबह 6 बजे तक संपर्क किया जा सकता है।

रोगी के घर पर ऑन-रिब आवश्यक है
कलेक्टर डॉ। एस भारतीदासन ने अफसरों से कहा है कि टेस्टिंग के दौरान 55 साल से ज्यादा उम्र के लोग कोरोना पाजिटिव होते हैं तो उन्हें होम आइसोलेशन में नहीं रखा जाएगा। उन्हें तत्काल अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा। पूर्ण लॉकडाउन के बाद किसी भी मोहल्ले या सड़क पर लोगों की भीड़ दिखती है तो पहले उनका कोरोना टेस्ट कराया जाएगा और उसके बाद उन पर वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। गुरुवार-शुक्रवार को शाम 6 बजे के बाद भीड़ दिखी तो ऐसे लोगों का कोरोना टेस्ट किया जाएगा। कलेक्टर ने होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों के घर क्रॉसिंग और रिबन लगाने को भी कहा है। ऐसे रोगियों के लिए दवाई उनके घरों तक पहुंचाई जाएगी।

काम पर नहीं पहुंचे, 54 को नोटिस
कोरोना मरीजों की पहचान करने और उनके संपर्क में आने वाले लोगों की जांच के लिए बनी सर्विलांस एक्टिव टीम में जिन अफसरों और कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है वह अब ड्यूटी ज्वाइन नहीं कर रहे हैं। यही कारण है कि ऐसे लोगों को लगातार नोटिस जारी की जा रही है। बुधवार को कांटेक्ट ट्रेसिंग समूह के 12 शिक्षकों को नोटिस जारी किया गया है। कांटेक्ट ट्रेसिंग की नोडल अधिकारी और अपर कलेक्टर पद्मिनी भोई साहू ने भी 42 लोगों को नोटिस जारी किया है। ये सभी की ड्यूटी न्यू सर्किट हाउस में बने केंद्र में लगाई गई थी। लेकिन वहां उसने अपनी उपस्थिति ही दर्ज नहीं की।

इन सभी लोगों से कहा गया है कि तत्काल उचित कारणों के साथ नोटिस का लिखित जवाब खुद पहुंचे। नोटिस के बाद भी नहीं आने वाले लोगों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। गौरतलब है कि सामान्य प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की ओर से निर्देश जारी किए गए हैं कि कोरोना पगीटिव रोगी की जानकारी मिलने के साथ ही 6 घंटे के भीतर क्वारेंटाइन और सैंपल लेने का काम पूरा करना है। इस काम को करने के लिए बड़ी संख्या में कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: