Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

गुड फ्राइडे: छत्तीसगढ़ में पूरी संजीदगी से मनाया गया यीशु मसीह का बलिदान दिवस, गिरजाघरों में वर्चस्व हुआ।

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर9 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

गिरजाघरों में केवल पुरोहितों की मौजूदगी में पारंपरिक आराधना संपन्न् की गई। इस दौरान बाइबिल की शिक्षाओं को याद किया गया।

  • कोरोना की वजह से गिरजाघरों में सामूहिक प्रार्थनाएँ नहीं हुईं
  • उपयोगकर्ता समाज ने उपवास, यीशु के बलिदान के संदर्भों को याद रखा

राजधानी रायपुर के गिरजाघरों में आज पूरी संजीदगी से चाहे फ्राइडे मनाया गया। कोरोना महामारी के प्रतिबंधों की वजह से सामूहिक प्रार्थना सभाएं नहीं हुईं। लेकिन श्रद्धालुओं के लिए संयुक्त गिरजाघरों ने ऑफ़लाइन वर्शिप की व्यवस्था की।

रायपुर के सेंट पॉल्स बेसेड इंजीनियरिंग व बैरनसरार में सेंट जोसफ महागिरजाघरों सहित चार दर्जन चर्चों में आज ऑफ़लाइन वर्शिप की गई। छत्तीसगढ़ डायसिस के बिशप रॉबर्ट अली ने लोगों को गुड फ्राइडे का महत्व बताया। उन्होंने प्रभ यीशु के जन्म के अभिप्राय से लेकर मृत्यु तक के प्रसंगों की व्याख्या की। उन्होंने कहा कि प्रभु द्वारा क्रूस पर कहे सात वचन उनके सम्पूर्ण चरित्र, व्यक्तित्व और मानव के प्रति प्रेम को प्रकट करते हैं। उन्होंने कहा कि धर्म और मानवता का महत्व है। इसलिए पुर्तगाली जीवन का मूल लोग भी ये सात वचन हैं। उन्होंने कहा, सात पहाड़ी उपदेश के माध्यम से आध्यात्मिक जीवन की प्रभु ने शुरुआत की, और क्रूस पर सात वजन कहकर समाप्त की। कलवारी के क्रूस का आत्महत्या जीवन से घनिष्ठ संबंध है। प्रभु ने जैसा कहा वैसा ही जीवन में किया। बिशप ने लोगों को बुरी आदतें और पापी जीवन को छोड़कर हावी की ओर लौटने का आह्वान किया।इन्होंने इस समारोह का आयोजन किया।

पादरी अजय मार्टिन, पादरी शमशेर सैमुअल, पादरी सुनील कुमार, पादरी असीम विक्रम, सेवक अब्राहम दास और बिशप अली ने उपदेश दिया। पादरी मार्टिन ने आराधना में अगुवाई की। प्रार्थना डिकन मार्कस केजू, इस्माइल मसीह, एम आर पत्र आदि ने की.सेंट जोसफ महागिरजाघर में आर्च बिशप विक्टर हैनरी ठाकुर ने चाहे फ्राइडे की आराधना पूरी कर ली हो। नियामक जनरल फादर सेबेस्टियन, फादर जोस अादि भी आराधना में शरीक हुए। इससे पहले चर्च कैंपस में क्रूस की प्रतिकात्मक यात्रा निकली।

ऑनलाइन केवल ईस्टर की आराधना होगी

छत्तीसगढ़ डायोसिस के प्रवक्ता जॉन राजेश पॉल ने बताया कि कोरोना की वजह से चर्चों वम्बिस्तानों में प्रवेश प्रतिबंध है। श्रद्धालु अपने घरों से ईस्टर की आराधनाएं सुबह 9 बजे से ऑफ़लाइन अटेंड कर रहे होंगे।

राज्यपाल और सीएम ने दिया संदेश

गवर्नर विजयईया उईके और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोशल मीडिया के जरिये रूसी समाज को चाहे फ्राइडे का संदेश भेजा है। गवर्नर ने लिखा है, “चाहे फ्राइडे पर, आइए हम सभी यीशु मसीह के बलिदान और मानव पीड़ा को कम करने के लिए उनकी सेवा को याद करें। आइए हम अपने आप को मानवता की सेवा में समर्पित करने का संकल्प दोहराएं।”

वही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लिखा, “चाहे फ्राइडे पर ईसा मसीह जी के द्वारा दिए गए बलिदान का स्मरण करते हुए मैं उन्हें कोटि-कोटि नमन करता हूं। प्रभु यीशु जी के जीवन से प्रेम, क्षमा, दया, करूणा, त्याग, धैर्य और सहिष्णुता की शिक्षा मिलती है। “

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: