Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

छत्तीसगढ़ में हाथी की हत्या!: सरगुजा के जंगल में मिला हाथी के बच्चे का शव, शरीर पर जख्मों के निशान और दोनों दांत गायब मिले; अफसर बोले- गैप में गिरकर मार

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अंबिकापुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में एक हाथी के बच्चे का शव सड़ी-गली हालत में मिला है।

  • मैनपाट से सटे धरमजयगढ़ वन मंडल का मामला, चरवाहों ने सड़ी-गली हालत में शव देखा तो जानकारी मिली
  • कई दिन पुराने शव होने की आशंका, वन विभाग ने पोस्टमार्टम कर शव को दफनाया, रिपोर्ट अलग नहीं

छत्तीसगढ़ के सरगुजा में होली के दिन एक हाथी के बच्चे का सड़ी-गली हालत में शव मिला है। शव पर घाव के निशान हैं और उसके दोनों दांत भी गायब थे। ग्रामीणों ने आशंका जताई है कि उसके दांत काटकर ले जाए गए हैं। ऐसे में हाथी के बच्चे की हत्या करने की आशंका है। वहीं सूचना मिलने के दो दिन बाद पहुंची वन विभाग की टीम ने पोस्टमार्टम के बाद शव को दफना दिया है। हालांकि उसकी रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की गई है।

जानकारी के मुताबिक, मैनपाट के लालिया गांव से लगे धरमजयगढ़ वन मंडल में सोमवार को चरवाहे जंगल में मवेशी चराने गए थे। वन क्षेत्र के पहाड़ी के किनारे खाई के पास तेज बदबू आने पर वहां पहुंचे तो देखा कि हाथी के बच्चे का शव पड़ा है। इस पर उन्होंने इसकी सूचना वन विभाग के मैदानी कर्मचारियों को दी। हालांकि होली की तलाश्त्टी होने के कारण कोई भी मौके पर नहीं पहुंचा। अगले दिन डॉक्टरों की टीम को बुलाया गया।

वन विभाग के अफसर बोले- पहाड़ी से खाई में गिरा होगा
हाथी के बच्चे की उम्र करीब 4 साल बताई जा रही है। रेंजर फेकू राम चौबे ने हाथी के बच्चे के गिरकर मौत होने की आशंका जताई है। उनका कहना है कि हो सकता है कि पहाड़ी से हाथी का बच्चा खाई में गिर गया हो। इसके कारण कोड लगने से उसकी मृत्यु हुई है। बताया जा रहा है कि गोसनी हाथी का दल पिछले तीन-चार महीने से वहां विचरण कर रहा है। इसमें 9 हाथी शामिल हैं। वह मैनपाट और धरमजयगढ़ में ही विचरण करते हैं।

हाथी मित्र भी बनाए गए, कागजों पर दौड़ रही योजनाएं
राज्य सरकार के हाथियों के संरक्षण और पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अलग-अलग योजनाएं चल रही हैं। पहले से ही गजराज परियोजना चल रही है। इसके बाद लेमरू अभयारण्य बनाया जा रहा है। यहां हाथी का कॉरीडोर है। इसके लिए लगभग 400 करोड़ रुपये भी सेंसेक्स किए गए हैं। इसके साथ ही हाथियों की डेली बेसिस पर समर्थन और गिनती के भी आदेश हैं। इसके लिए हाथी मित्र भी रखे गए हैं, लेकिन सभी योजनाएं कागजों में ही दम तोड़ती दिख रही हैं।

जून 2020 से जारी है हाथियों की मौत का सिलसिला
छत्तीसगढ़ में जून 2020 से हाथियों की मौत का सिलिसला जारी है। पिछले साल 14 हाथियों की मौत हो चुकी है। इनमें से 3 हाथी सितंबर और 2 अक्टूबर महीने में ही मारे गए हैं।

  • 26 अक्टूबर: कोरबा के कटघोरा में ही तालाब किनारे हाथी के बच्चे का शव मिला।
  • 17 अक्टूबर: कोरबा के कटघोरा वन परिक्षेत्र में तालाब में डूबने से हाथी के बच्चे की मौत हुई।
  • 28 सितंबर: गरियाबंद में बिजली विभाग की लापरवाही से तार की चपेट में आकर हाथी की मौत
  • 26 सितंबर: महासमुंद के पिथौरा में शिकारियों ने करंट लगाकर हाथी को मारा
  • 23 सितंबर: रायगढ़ में धरमजयगढ़ के मेंढरमार में करंट लगने से हाथी की मौत
  • 16 अगस्त: सूरजपुर में जहरीला पदार्थ खाने से नर हाथी की मौत
  • 24 जुलाई: जशपुर में करंट लगाकर नर हाथी को मारा गया
  • 9 जुलाई: कोरबा में 8 साल के नर हाथी की इलाज के दौरान मौत
  • 18 जून: रायगढ़ के धरमजयगढ़ में करंट से हाथी की मौत
  • 16 जून: रायगढ़ के धरमजयगढ़ में करंट से हाथी की मौत
  • 15 जून: धमतरी में माडमसिल्ली के जंगल में कीचड़ में फंसने से हाथी के बच्चे ने दम तोड़ा।
  • 11 जून: बलरामपुर के अतौरी में मादा हाथी की मौत हुई थी
  • 9 व 10 जून: सूरजपुर के प्रतापपुर में एक गर्भवती हथिनी सहित 2 मादा हाथियों की मौत हुई।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: