Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

CM की ब्लैकबेरी के लिए अटके 360 करोड़ अब मिलेंगे: छत्तीसगढ़ के सरकारी कर्मचारियों को होली से पहले मिलनी 7 वें वेतनमान के बकाए की राशि थी; सीएम नहीं थे तो आदेश ही जारी नहीं हो पाए, अब आया आदेश

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुरएक घंटा पहले

  • (*7*)
  • कॉपी लिस्ट

वित्त विभाग ने बकाये की तीसरी किश्त के भुगतान का आदेश रविवार को जारी किया। इसके साथ ही बकाया जारी करने की कार्रवाई शुरू हो गई है।

  • वित्त विभाग ने रविवार को जारी किया बकाया भुगतान करने का आदेश
  • अगले सप्ताह तक कर्मचारियों के खाते में बकायदा राशि आ जाएगी

छत्तीसगढ़ राज्य कर्मचारियों को सरकार ने होली से पहले 360 करोड़ रुपये देने की घोषणा की थी। यह 7 वें वेतन आयोग के कहनेे की तीसरी किश्त थी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की गैर मौजूदगी में इस आदेश की फाइल पर हस्ताक्षर नहीं मिले। उनके इंतजार के बाद 28 मार्च यानी रविवार को वित्त विभाग ने बकाया भुगतान का आदेश जारी किया। ऐसे में कर्मचारियों को होली के बाद यह राशि मिल पाएगी।

पिछले 21 मार्च को प्रदेश के 1 लाख 81 हजार राज्य कर्मचारियों और अधिकारियों को 7 वें वेतनमान के बकाये की तीसरी किश्त देने का फैसला हुआ। एक जुलाई २०१६ से ३० सितंबर २०१६ तक बकाये की तीसरी किश्त में 360 करोड़ रुपए जारी किए गए थे। अधिकारियों ने बताया, कोरोना संकट की वजह से प्रदेश की आर्थिक गतिविधियों के प्रभावित हुए थे। इसकी वजह से सरकार ने कई खर्च में कटौती के तहत पिछले साल मिलने वाली तीसरी किश्त का भुगतान भी टाल दिया था। अब जब अर्थव्यवस्था पटरी पर आ रही है तो यह किश्त जारी करना है। फैसले के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल असम विधानसभा चुनाव में कांग्रेस नेताओं का प्रचार करने चले गए। इसकी वजह से वित्त विभाग इस आदेश की नोटशीट पर उनका हस्ताक्षर नहीं ले पाया गया।

मुख्यमंत्री 27 मार्च को लौटे। उसके बाद उनके सामने कर्मचारियों के बकाये के भुगतान वाली फाइल पेश कर हस्ताक्षर के लिए संभव हो गया। रविवार होने के बावजूद 28 मार्च को वित्त विभाग ने बकाया किश्त के भुगतान के आदेश जारी कर दिए। 29 मार्च को होली का अवकाश था। बताया जा रहा है कि आज कर्मचारियों को मिलने वाली राशि की गणना कर संबंधित ट्रेजरी को भेजा जाएगा। अगले एक सप्ताह में यह राशि कर्मचारियों के बैंक खाते में पहुंच जाएगी।

छह किष्टें में होना चाहिए है का भुगतान

सरकार ने कर्मचारियों के वेतन बकाये का भुगतान 6 किश्तों में देने की योजना बनाई थी। अगस्त 2018 में सरकार ने पहले किश्त के तौर पर 344 करोड़ रुपये जारी किए। अगले साल अक्टूबर में सरकार ने दूसरी किश्त के 356 करोड़ रुपयों का भुगतान कर दिया। मतलब यह हुआ कि सरकार अभी तक लगभग 700 करोड़ रुपये का भुगतान कर चुकी है। 2020 में कोरोना की वजह से इसकी निरंतरता टूटी थी। अब इसका तीसरा किश्त जारी होगा।

यह तय हुआ था

छत्तीसगढ़ राज्य कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों का लाभ देने के लिए 2017 में छत्तीसगढ़ पुनरीक्षण नियम बना था। सरकार ने जनवरी 2016 से बढ़ी हुई वेतन देने की बात कही थी। लेकिन वेतन में इसका फायदा जुलाई 2017 से बढ़ेने वेतन के रूप में सामने आया था। सरकार ने जनवरी 2016 से जून 2017 तक 18 महीने का बकाया 6 रिश्तों में देने का वादा किया था। 2018 से यह हर साल मिलता रहा है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: