Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

छत्तीसगढ़ में गर्म हुआ मौसम: राजधानी में 41.6 डिग्री दिन का तापमान, प्रशासन को लू से बचाव के प्रबंधन का निर्देश

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर9 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

पिछले एक सप्ताह में छत्तीसगढ़ के मौसम में गर्मी बढ़ी है। आमतौर पर 37 डिग्री सेल्सियस पर रहने वाला पारा बूम मारकर 41 डिग्री सेल्सियस की सीमा को पार कर गया था।

  • मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों में तापमान बढ़ने की संभावना जताई है
  • भीषण गर्मी की संभावना पर आपदा प्रबंधन विभाग ने आदेश जारी किया है

छत्तीसगढ़ में मौसम गर्म हो गया है। लगातार दूसरे दिन प्रदेश के विभिन्न शहरों का तापमान बढ़ा हुआ दिखा। आज राजधानी रायपुर में तापमान 41.6 डिग्री सेल्सियस आंका गया। पिछले चार वर्षों में यह मार्च महीने में रायपुर का सबसे अधिक तापमान है। प्रदेश में भीषण गर्मी की संभावना को देखते हुए राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग ने सभी कलेक्टरों को पत्र लिखकर लू से बचाव का प्रबंधन रखने के निर्देश दिया है।

मौसम विज्ञान केंद्र की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक मंगलवार को रायपुर में दिन का अधिकतम तापमान 41.6 डिग्री सेल्सियस रहा। सोमवार को इसका तापमान 39.4 डिग्री हो गया था। आज का तापमान रायपुर के सामान्य औसत तापमान 37.6 से 4 डिग्री अधिक है। अबसे पहले 30 मार्च 2017 को रायपुर में 41.6 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया था। प्रदेश के दूसरे शहरों में दुर्ग में तापमान 41.5 डिग्री और राजनांदगांव में 41 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ है। बिलासपुर संभाग के बिलासपुर में मंगलवार का अधिकतम तापमान 40.6 डिग्री और पेण्ड्रा रोड में 39.6 डिग्री सेल्सियस रहा। प्रदेश के उत्तरी छोर पर अम्बिकापुर में दिन का तापमान 38.5 डिग्री सेल्सियस और दक्षिणी छोर के शहर जगदलपुर में अधिकतम तापमान 38.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ है।

इधर राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग की सचिव रीता शांडिल्य ने सभी जिलों के कलेक्टरों को पत्र जारी कर इस साल भीषण गर्मी की संभावना को देखते हुए लू से बचाव और प्रबंधन करने के निर्देश दिए हैं। राहत आकृत ने इस संबंध में सभी कलेक्टरों को अपने-अपने जिले में एक वरिष्ठ अधिकारी को नोडल अधिकारी नियुक्त करने और प्रतिदिन लू से अनंतों की जानकारी राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग को प्रेषक के निर्देश दिए हैं। राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा कलेक्टरों को अपने जिलों में लू से बचाव के लिए लोगों को जागरूक करने के लिए सभी आवश्यक कार्यवाही करने के लिए निर्देश दिए गए हैं।

क्या होता है लू लगना

तेज गर्मी की वजह से शरीर का तापमान अनियंत्रित हो जाता है। शरीर की जैविक क्रियाओं को प्रभावित करता है। इस स्थिति को लू लगना (हीट स्ट्रोक) कहते हैं। सर दर्द, भारीपन, तेज बुखार के साथ मुंह का सूखना, चक्कर और उल्टी का आना, कमजोरी के साथ शरीर में दर्द होना, भूख कम लगना और बेहोशी जैसे लक्षणाें से लू लगने का पता लगता है।

लू से बचाव के लिए यह करना होगा

तेज धूप और गर्मी में ज्यादा देर तक रहने के कारण शरीर में पानी की कमी हो जाती है। इससे बचाव के लिए यह ध्यान रखना जरूरी है कि अधिक वापस आने की स्थिति में ओआरएस घोल पीए। बहुत जरूरी न हो तो घर से बाहर ना जावें। धूप में निकलने से पहले सर व कानो को कपड़ें से अच्छे से बांध ले। पानी अधिक मात्रा में पी। देर तक धूप में न रहें। सूती कपड़े पहनने चाहिए ताकि सूखापन वापस आ जाए। चक्कर आने, मितली आने पर छायादार स्थान पर आराम करें और शीतल पेयजल या उपलब्ध हो तो फल का रस, लस्सी, मठा आदि का सेवन करें। उल्टी, सर दर्द, तेज बुखार की दशा में रोगी को निकट के अस्पताल या स्वास्थ्य केंद्र में तत्काल वहाँ जाना चाहिए।

लू लग जाए तो इट

  • बुखार पीड़ित व्यक्ति के सिर पर ठंडे पानी की पट्टी लगावें।
  • अधिक पानी व पेय पदार्थ पिलावें जैसें कच्चे आम का पना, जलजीरा।
  • व्यक्ति को पंखें के नीचे हवा में लिटा दें, शरीर पर ठंडे पानी का छिड़काव करते रहे।
  • पीड़ित को शीघ्र ही किसी निकटतम चिकित्सक, अस्पताल या स्वास्थ्य केंद्र में पहुंच जाते हैं।

उत्तर पश्चिम से आ रही हवाओं का असर

रायपुर मौसम विज्ञान केंद्र के विज्ञानी एच.पी. चंद्रा इसे उत्तर पश्चिम से आ रही गर्म हवाओं का प्रभाव बता रहे हैं। उन्होंने बताया, प्रदेश में उत्तर पश्चिम से गर्म और शुष्क हवाओं की वजह से प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों का अधिकतम तापमान 40 डिग्री या उससे अधिक पहुंच गया है।]इसकी वजह से प्रदेश में लू (ग्रीष्म लहर) जैसी स्थिति बनी हुई है। अगले कुछ दिनों तक प्रदेश के मध्य भाग के एक-दो पाट में लू चलने की सम्भावना है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: