Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

छत्तीसगढ़ में कोरोना: पिछले 24 घंटे में मिले 1423 नए मरीज, राज्य में मरने वालों का औसत राष्ट्रीय औसत से ज्यादा, केंद्र की रिपोर्ट में खुलासा

तस्वीर रायपुर की है। मालवीय रोड पर इस तरह का सन्नाटा सोमवार को सुबह से ही देखने को मिला, जबकि हर साल यहां होली के दिन भीड़ होती थी।

  • राज्य सरकार के ताजा आंकड़ों के मुताबिक 419 लोग सोमवार रात तक ठीक हुए हैं
  • रायपुर और दुर्ग में अभी मिल अधिक रोगी हैं और मरने वालों का आंकड़ा भी इन्हीं शहरों में अधिक है

पिछले 24 घंटों में राज्य के 1,423 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। सोमवार को 419 लोग ठीक हुए। 18 कोरोनार्टों की मौत भी हुई। छत्तीसगढ़ में अब सक्रिय मरीजों की संख्या 201081 हो गई है। सोमवार को 8283 लोगों की टेस्टिंग की गई थी। सबसे ज्यादा 509 मरीज अकेले दुर्ग से मिले। रायपुर से 442, बिलासपुर से 95, राजनांदगांव से 73, रायगढ़ से 7, कोरबा से 13 मरीज मिले। गरियाबंद, सुकमा, नारायणपुर और बीजापुर राज्य के ऐसे जिले जहां बीते 24 घंटे में एक भी कोरोना संभावित व्यक्ति नहीं मिला।

राष्ट्रीय औसत को पीछे छोड़ने वाले राज्यों में छत्तीसगढ़
सोमवार को केद्र सरकार ने ऐसे राज्यों के बारे में बताया जहां मरने वालों का अौसत राष्ट्रीय औसत से अधिक है। कोरोना की वजह से इस फैसले में 18 राज्यों को रखा गया है। ये 15 वें नंबर पर छत्तीसगढ़ है। नंबर 1 की पोजिशन पर देश की राजधानी दिल्ली है। इस औसत की गणना प्रति 10 व्यक्तियों में हो रही मौतों पर की गई है। देश का औसत 117 है, छत्तीसगढ़ 138 और दिल्ली का औसत 588 है। छत्तीसगढ़ में पिछले 1 साल में अब तक 4096 लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य सरकार के ताजा आंकड़ों के मुताबिक 419 लोग सोमवार रात तक ठीक हुए रायपुर और दुर्ग में अभी मिल ज्यादा मरीज हैं और मरने वालों का आंकड़ा भी इन्हीं शहरों में है।

अब प्राथमिक अस्पतालों की ओर देख रही सरकार
राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं के संचालक नीरज बंसोड़ ने बताया कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए निजी चिकित्सालयों में कोविड मेडिकल फैसेलिटी और आइसोलेशन संचालक को फिर से शुरू किया जा रहा है। अब प्राथमिक अस्पताल में को विभाजित रोगियों के उपचार के लिए अस्पताल में संचालित कुल बिस्तरों में से विभाजित और नान को विभाजित सहित 50 प्रतिशत बिस्तरों में आक्सीजन की फैसिलिटी उपलब्ध कराने पर जोर दिया जा रहा है। इसलिए वहां मरीजों को सुविधा मिली।

लापरवाही के चलते मरीज बढ़ जाते हैं
अंबेडकर हॉस्पटल के संयुक्त संचालक और अधीक्षक डॉ विनीत जैन ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से कोरोना रोगियों की संख्या में बढोतरी दिख रही है। अस्पताल में कोराना के गंभीर लक्षण के साथ भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या में भी वृद्धि हुई है।उन्होंने बताया कि पिछले कुछ समय में लोग लापरवाह हुए हैं, जिसमें चेहरे ना लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करना शामिल है। इस तरह मरीजों में अपने आप को छुपाने की प्रवृत्ति भी बढ़ी है। कई बार जांच देर से कराने या देरी से अस्पताल पहुंचने के कारण गंभीर अवस्था में मरीजों को लगभग जाने संभव नहीं पाता। बचाव हमेशा इलाज से बेहतर होता है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: