Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

रंग पर्व आज: इस बार कोरोना ही होलिका, वर्क पहनकर गोद में बैठे भक्त प्रहलाद का संदेश- दो गज दूरी है जरूरी

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर3 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

श्याम नगर में गजराज ध्रुव, देवराज यादव, लवली, राम यादव और गोपाल यादव ने जागरूकता का संदेश तैयार किया।

  • होली खुशियों का त्योहार है, खुश खुशियां मनाईए लेकिन सावधानी के साथ …

इस होलिका दहन में भद्रा की जगह कोरोना महामारी ही सबसे बड़ी बाधा बन रही है। प्रभाव इतना कि प्रतिमाओं तक में कोरोना की छाप दिखी। जगह-जगह कोरोना रूपी होलिका का झाड किया गया। इनमें भक्त प्रहलाद को पहने हुए दिखाए गए हैं। साथ में यह संदेश भी दिया गया कि होली खुशियों का त्योहार है, खु खुशियां मनाईए लेकिन सावधानी के साथ। दो गज की दूरी, facades बहुत जरूरी है।

रविवार को शहर में 500 से ज्यादा जगहों पर होलिका दहन किया गया। ज्यादातर जगहों पर रात 8 से 11 बजे के बीच ही होलिका दहन कर लिया गया था। वहाँ कुछ स्थानों पर शाम होते ही होलिका जला दी गई, ताकि रात में भीड़ न जुटे और झाड़ की परंपरा भी बनी रहे। सोमवार को होली भी नियमों के साये में मनाई जाएगी।

आस्था की आग में अहंकार का स्वीप … भजनों के साथ फाग का राग
मान्यता के अनुसार, राजा हिरण्यकिशपु को बहुत अधिक अहंकार हो गया था कि वह भगवान विष्णु को भी कुछ नहीं जानता था। दूसरी ओर उसी का पुत्र प्रह्लाद श्री हरि का अनन्य भक्त हुआ। क्रोधित होकर हिरण्यकयश्पु ने उसे मरने के लिए कई निर्देश किए। हर बार असफलता मिलने पर भाई की मदद करने वाली बहन होलिका आई। उसे वरदान में मिला कि वह एक कपड़ा ओढ़ ले तो आग में नहीं जलेगी।

वह प्रहलाद को लेकर आग में बैठी, लेकिन श्रीहरि की कृपा से हवा का झोंका आया और कपड़ा उड़कर प्रहलाद के शरीर में आ गया। होलिका वही जलकर भस्म हो गई। बाद में श्रीहरि ने नृसिंह अवतार लेकर हिरण्यकश्यपु का वध कर उसके अहंकार का नाश किया।

गौरतलब है कि बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर प्रशासन ने शहर में धारा 144 लागू की है जिसके कारण होलिका सींग वाली जगहों पर कम भीड़ हो रही है। होलिका दहन के बाद नगाड़ों की धुन और फाग गीत भी सुनने को नहीं मिले। दूसरी ओर मठ-मंदिरों में पूजा-पाठ और भजन-अनुष्ठान तो हुए लेकिन बगैर भक्तों को। सिर्फ पुजारी ही इसमें शामिल थे।

मुख्यमंत्री बघेल, राज्यपाल उईके और स्पीकर महंत ने दी होली की जीत
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, राज्यपाल उईया उईके और विधानसभा अध्यक्ष डॉ। चरणदास महंत ने प्रदेशवासियों को होली की शुभकामनाएं दी हैं। महंत ने कहा, होली के रंग व हंसी-खुशी का त्योहार है। प्यार भरे रंगों से सजा यह त्योहार हर धर्म, संप्रदाय, जाति के बंधन खोलकर भाई-चारे का संदेश देता है। इस दिन सभी लोग अपने पुराने गिले-शिकवे भूल कर गले लगते हैं और एक दूजे को अबीर-गुलाल लगाकर जीत देते हैं। यह भारत का एक प्रमुख और प्रसिद्ध त्योहार है, जो आज विश्वभर में मनाया जाने वाला है। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा, उत्सव में इस बात का विशेष ध्यान रखें कि वैश्विक महामारी तेजी से बढ़ रही है।

पुरानी बस्ती … कंडे की होलिका, रात में महामाया की आग से झाडू
पुरानी बस्ती स्थित ठाकुरपारा में सालों से कंडे की होलिका जलाई जा रही है। इस बार भी यहां इकोफ्रेंडली होलिका दहन किया गया। शहर जिला कांग्रेस के प्रवक्ता बंशी कन्नौज ने बताया कि रात को महामाया मंदिर से आग लाकर शुभ मुहूर्त में होलिका जलाई गई।

स्वर्णभूमि सोसाइटी में सुबह महिलाओं ने पूजा की
विधानसभा रोड स्थित स्वर्णभूमि रेसीशेशियल सोसाइटी में सुबह महिलाओं ने होलिका की पूजा-अर्चना की। रात 8.30 बजे के मुहूर्त में यहां होलिका दहन किया गया। इस दौरान

ये होली इकोफ्रैंडली … ज्यादातर जगहों पर गोकाठी की होलिका
बहुत से स्थानों पर पर्यावरण सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए गो काष्ठ व कोंनों का उपयोग किया गया। कई चौराहों पर सजावट कर होलिका और भक्त प्रहलाद की प्रतिमाओं को रखा गया था। बाद में प्रहलाद की प्रतिमाएं हटाकर होलिका को जलाया गया। लोगों ने एक-दूसरे को गुलाल लगाकर त्योहार की शुभकामनाएं दीं। हालांकि इस दौरान कम भीड़ ही रही। हौलिका झाड़ी इकोफ्रैंडली इसलिए इस बार नगर निगम ने भी जोन के जरिए गोकास्ठ उपलब्ध कराया। सरकार और सामाजिक संगठनों की अपील का भी असर रहा कि इस बार लगभग सभी जगहों पर गोकास्ट की होलिका जलाई गई।

रंगों का बाजार इस बार कोरोना के कारण बने रहे बेरंग
ग्राहकों की कम भीड़ के कारण इस बार रंगों से सजे शहर के बाजार बेरंग रहे। दरअसल, होली से ऐन पहले बढ़ते संक्रमण के चलते पाबंदियों से बाजार पर बड़ा असर पड़ा है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: