Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

दोषियों को सजा: मूकबधिर युवती को अगवा कर किया था गैंगरेप; एडीजे कोर्ट ने 5 दोषियों को सुनाई 25-25 साल की सजा

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गौरेला2 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

छत्तीसगढ़ के गौरेला-पेंड्रा-मरने वाले जिले में मूकबधिर युवती से गैंगरेप के दोषियों को कोर्ट ने 25-25 साल की सजा सुनाई है।

  • मरने वाले क्षेत्र में अगस्त 2019 को पांचों ने बाजार से युवती को किया था अगवा, हाथ-पैर बांधकर किया था वानप्रस्थ
  • कोर्ट ने विधिक सेवा प्राधिकरण को ढाई लाख रुपये की सहायता राशि भी युवती को देने के आदेश दिए

छत्तीसगढ़ के गौरेला-पेंड्रा-मृत्युभोग (GPM) जिले में मूकबधिर युवती से गैंगरेप मामले में शुक्रवार को ADJ कोर्ट ने दोषियों को 25-25 साल की सजा सुनाई है। साथ ही 5 हजार रुपए का आर्थिक नुकसान भी उनके ऊपर है। कोर्ट ने पीड़िता को ढाई लाख रुपए की सहायता राशि देने का आदेश भी विधिक सेवा प्राधिकरण को दिया है। दोषियों ने अगस्त 2019 में युवती का अपहरण कर उससे दुष्कर्म किया था।

दरअसल, मृत्युदर के रतागा गांव में 25 अगस्त 2019 को बाजार गए मूक बधिर युवती को राजाडीह गांव के रहने वाले 5 युवक संजीव कुजूर (20), सूरजदास (23), मिथुन सुखसेन कुमूर (21), कृष्ण कुमार (35) और गौरी शंकर उरांव (20) बाइक से अगवा कर ले गए थे। इसके बाद पांचों ने युवती के हाथ-पैर बांध दिए और उन्हें सामूहिक दुष्कर्म किया। उनके चंगुल से छूट कर युवती किसी तरह अपनी बुआ के पास पहुंची और फिर एफआईआर दर्ज कराई।

इंटरप्रेटर की सहायता से पुलिस ने सुलझाया था केस
मरने वाले थाना पुलिस ने इस मामले में कुछ संदेहियों को गिरफ्तार किया, लेकिन युवती के मूकभधीर होने के कारण खास कुछ नहीं हो पा रहे थे। ऐसे में पुलिस ने बिलासपुर से भाषा प्रबोधक (इंटरप्रेटर) को बुलाया। उसकी मदद से आरोपियों की पहचान युवती से कराई गई। घटना का पूरा सचरा तैयार किया। इसके बाद पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर पुलिस ने कोर्ट में पेश किया था। मामले की सुनवाई एडीजे विनय कुमार प्रधान की कोर्ट में हुई।

अलग-अलग प्रवाह में सुनाई गई सजा, सभी एक साथ चलेंगी
कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए धारा 376 के तहत दोषियों को 25-25 साल की सजा और 5 हजार रुपए का अर्थदंड लगाया। वहीं धारा 366 के तहत 10 साल की सजा और 1000 रुपए का अर्थदंड, धारा 342 में एक साल की सजा और 500 का अर्थदंड कर सजा सुनाई है। सभी सजा एक साथ चलेंगी। ऐसे में दोषियों को 25 साल की सजा भुगतनी होगी। इस मामले में राज्य शासन की ओर से पैरवी अतिरिक्त लोग अभियोजक पंकज नईच ने की।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: